Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2022 · 1 min read

तुम्हारी जुदाई ने।

तुम्हारी जुदाई ने हर खुशी छीन ली है।
अब तो चांदनी रातें भी गमगीन सी है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
2 Likes · 2 Comments · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
कवि रमेशराज
💐अज्ञात के प्रति-98💐
💐अज्ञात के प्रति-98💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेघ
मेघ
Rakesh Rastogi
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
इश्क़ का फ़लसफ़ा
इश्क़ का फ़लसफ़ा
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
आप कैसा कमाल करते हो
आप कैसा कमाल करते हो
Dr fauzia Naseem shad
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
मनोज कर्ण
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दुख आधे तो पस्त
दुख आधे तो पस्त
RAMESH SHARMA
चुपके से चले गये तुम
चुपके से चले गये तुम
Surinder blackpen
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh Manu
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
Anil chobisa
नसीब
नसीब
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
किन्नर व्यथा...
किन्नर व्यथा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
Basant Bhagawan Roy
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वक्त  क्या  बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
वक्त क्या बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...