Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))

(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
आना भी नही है कही जाना भी नही है
अब मिलने मिलाने का जमाना भी नहीं है

तुम भी तो मेरे चाहने वालों मे थे सामिल
किस्सा ये कोई खास पुराना भी नही है

इस दिल मे कई राज ऐसे भी है जिनको
करना भी नही याद और भुलाना भी नही है

दुनिया को बुरा कहना है हर हाल में लेकिन
दुनिया को छोड़ कर हमे जाना भी नहीं है

मन्दिर में भी मैखाने मे भी सो र बहुत है
अपना तो कही और ठिकाना भी नहीं है

साहिल पे गुजर हो तो समंदर से गरज क्या
खोना भी नहीं कुछ हमें पाना भी नही है

कुछ लोग ना समझे हैं ना समझेंगे हकीकत
हमको ये गजल उनको सुनाना भी नही है

तुम अगर समझदार हो तो समझ लो मुझको
मैं तुम्हारा था किसी और का होना भी नही है

तुम्हारी यादे है इतनी की किताबे पढ़ी नही जाती
तुम्हारी यादों के सिवा कुछ और पढ़ना भी नही है

साथ घूमे थे साथ रहते थे चाय पिलाता और पीते रहे
अब किसी के साथ हमको समय बिताना भी नही है

कभी मिल कर बहुत सारी बाते करना है तुमसे
अपनी बातो को छोड़ किसी और की बाते करना भी नही है

ऋतुराज वर्मा

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
subhash Rahat Barelvi
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
Taj Mohammad
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
कोरा संदेश
कोरा संदेश
Manisha Manjari
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
रे ज़िन्दगी
रे ज़िन्दगी
Jitendra Chhonkar
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हारे लिए हम नये साल में
तुम्हारे लिए हम नये साल में
gurudeenverma198
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
तुम मेरी
तुम मेरी
हिमांशु Kulshrestha
"ॐ नमः शिवाय"
Radhakishan R. Mundhra
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
*Author प्रणय प्रभात*
2759. *पूर्णिका*
2759. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
Loading...