Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

तुमको भी मिलने की चाहत थी

तुमको भी मिलने की चाहत थी,
मुझको भी मिलने की चाहत थी।
पर मिल न सके हम दोनो कभी,
ये अजीब ही दिल में चाहत थी।।

कुछ स्वप्न मेरे धुंधलेे से थे,
कुछ चाहत मेरी उजली थी।
कोई आहट थी धीमी सी,
उनके लिए मै पगली सी थी।।

कुछ मन में भाव अजीब से थे,
दिलो को मिलने में ही राहत थी।
न मै मिल सकी न तुम मिल सके,
दोनों के दिल में एक घबराहट थी।

कुछ पगडंडी भी टेढ़ी सी थी,
दिल में कुछ झुंझलाहट थी।
मन मसोस के हम रह जाते थे,
बस मिलने की एक चाहत थी।।

न कह सकी मै मन की बाते,
न कह सके तुम मन की बाते।
बीत रही थी कुछ इस तरह ही,
जीवन की ये दिन और राते।।

तुम भी कुछ मजबूर थे,
मै भी कुछ मजबूर थी।
मिल न सके हम दोनों,
दोनों की कुछ मज़बूरी थी।।

एक तरफ कुछ खाई थी,
दूसरी तरफ भी खत्ती थी।
दोनों ही मौत की कुएं थे,
दोनों में बहुत गहराई थी।।

फूलों में कुछ अजीब खुशबू थी,
कांटो में कुछ अजीब चुभन थी।
चले जा रहे थे दोनों राहों में,
दिलो में दोनों के ये भटकन थी।।

ये कैसे सामाजिक बंधन बने है,
जो मिलने में ही रुकावट बने है।
कैसे इन बंधनों को हम तोड़े,
ये आफत हमारे लिए बड़े बने है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 6 Comments · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
आरक्षण का दरिया
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*कहाँ गए शिक्षा क्षेत्र में सामाजिक उत्तरदायित्व से भरे वह दिन ?*
*कहाँ गए शिक्षा क्षेत्र में सामाजिक उत्तरदायित्व से भरे वह दिन ?*
Ravi Prakash
2310.पूर्णिका
2310.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
Ek din ap ke pas har ek
Ek din ap ke pas har ek
Vandana maurya
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कविता
कविता
Rambali Mishra
दुनिया के मेले
दुनिया के मेले
Shekhar Chandra Mitra
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
'अशांत' शेखर
कौन सोचता बोलो तुम ही...
कौन सोचता बोलो तुम ही...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*** हमसफ़र....!!! ***
*** हमसफ़र....!!! ***
VEDANTA PATEL
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
नव लेखिका
💐
💐
*Author प्रणय प्रभात*
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
Seema Verma
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...