Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

** तीर चल गया **

सन्नन सा आँखों से तीर चल गया

ना जाने किसका सितारा ढल गया

सौख नजरों से बच के निकल जाना

अब ना जाने दिन किसका ढल गया ।।

?मधुप बैरागी

Language: Hindi
237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
ग़ज़ल __
ग़ज़ल __ "है हकीकत देखने में , वो बहुत नादान है,"
Neelofar Khan
अड़चन
अड़चन
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
VINOD CHAUHAN
🌸अनसुनी 🌸
🌸अनसुनी 🌸
Mahima shukla
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
मेरे सपने
मेरे सपने
Saraswati Bajpai
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अच्छे कर्म का फल
अच्छे कर्म का फल
Surinder blackpen
कान्हा घनाक्षरी
कान्हा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
*श्वास-गति निष्काम होती है (मुक्तक)*
*श्वास-गति निष्काम होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
■ सुबह-सुबह का ज्ञान।।
■ सुबह-सुबह का ज्ञान।।
*प्रणय प्रभात*
"प्रथम साहित्य सृजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
कर
कर
Neelam Sharma
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
देखी है हमने हस्तियां कई
देखी है हमने हस्तियां कई
KAJAL NAGAR
ये सफर काटे से नहीं काटता
ये सफर काटे से नहीं काटता
The_dk_poetry
23/142.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/142.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
कमियाबी क्या है
कमियाबी क्या है
पूर्वार्थ
एक तरफ़ा मोहब्बत
एक तरफ़ा मोहब्बत
Madhuyanka Raj
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोगों ने तुम्हे केवल नफरत दी है अरे नही रे लोगो ने तुम्हे थप
लोगों ने तुम्हे केवल नफरत दी है अरे नही रे लोगो ने तुम्हे थप
Rj Anand Prajapati
आज जब वाद सब सुलझने लगे...
आज जब वाद सब सुलझने लगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम्हारी चाय
तुम्हारी चाय
Dr. Rajeev Jain
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...