Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 2 min read

*ताना कंटक एक समान*

विद्या स्वछंद काव्य
लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
9968073528 वाट्स अप

ताना देते हो और मुस्कुराते हो । कसम से तुम तो कांटा चुभाते हो ।
मैं कहता सरलतम शब्दों में बात अपनी , तुम तो बहुत खूबसूरत
प्रस्तुति से इसका अर्थ ही भिन्न भिन्न – क्यूँ लगाते हो ।

न नाज़ करते न तारीफ़ करते न तालियां बजाते हो ।
दूर खड़े हो दूर दूर से आंखों आंखों में मुस्कुराते हो।

बड़ा मुश्किल है आभास करना दिखता कुछ होता कुछ ।
अपने ही हिसाब से सब ऐसी स्थिति में कयास अपने अपने लगाते हैं

ताना देते हो और मुस्कुराते हो । कसम से तुम तो कांटा चुभाते हो ।

दर्द दंश का सहने की आदत हमें हो गई है।
व्यर्थ ही अब समझ लेना इस प्रकार दिखावे के
प्रयासों के द्वारा समय अपना गंवाते हो ।

धनात्मक सोच है हमारी और संस्कृति भी ये जान लीजिए।
दे दे के ताना आप तो बेकार अब कड़वा पान चबाते हो ।

एक सलाह है मुफ़्त में मान्यवर इस अरूण की ।
सीधे – सीधे जी हां सीधे – सीधे बोला करो अटकलें क्यों लगाते हो।

चलो छोड़ो ताना और कंटक की बातें।
भूल जाते हैं सब दोष दुश्वार की बातें।

गले लगा लें इक दूसरे को इस नवरात्र में।
मां शारदे के चरणों में शीश हम झुकाते हैं।

ताना देते हो और मुस्कुराते हो । कसम से तुम तो कांटा चुभाते हो ।
मैं कहता सरलतम शब्दों में बात अपनी , तुम तो बहुत खूबसूरत
प्रस्तुति से इसका अर्थ ही भिन्न भिन्न – क्यूँ लगाते हो ।

न नाज़ करते न तारीफ़ करते न तालियां बजाते हो ।
दूर खड़े हो दूर दूर से आंखों आंखों में मुस्कुराते हो।

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
3216.*पूर्णिका*
3216.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
मजदूर
मजदूर
Namita Gupta
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
अधबीच
अधबीच
Dr. Mahesh Kumawat
कोहरे के दिन
कोहरे के दिन
Ghanshyam Poddar
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
'अकेलापन'
'अकेलापन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
करती रही बातें
करती रही बातें
sushil sarna
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🙅मैच फिक्स🙅
🙅मैच फिक्स🙅
*प्रणय प्रभात*
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Saraswati Bajpai
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
Loading...