Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

तहजीब राखिए !

लफ्जों में अदब,
बज़्म में तहज़ीब रखिए,
मेहनत की आदत,
और हाथों में नसीब रखिए।
माना जमाना शराफत
का नही है लेकिन,
सूरत को नहीं अपनी
सीरत को शरीफ रखिए।
आजकल के रिश्तों में
खूब आ गई दरारें,
झूठा गुरुर छोड़कर
अपनों को करीब रखिए।
जरूरी नहीं जरूरतें सारी
पैसों से पूरी हो,
इसीलिए लोगो से अपने
संबंध अजीज रखिए।
@साहित्य गौरव

3 Likes · 622 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद में हैं सब अधूरे
खुद में हैं सब अधूरे
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
गहरा है रिश्ता
गहरा है रिश्ता
Surinder blackpen
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कर्जमाफी
कर्जमाफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
🙅समझ जाइए🙅
🙅समझ जाइए🙅
*Author प्रणय प्रभात*
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
ओ दूर के मुसाफ़िर....
ओ दूर के मुसाफ़िर....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आश्रम
आश्रम
Er. Sanjay Shrivastava
कभी जब आपका दीदार होगा
कभी जब आपका दीदार होगा
सत्य कुमार प्रेमी
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
sushil sarna
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
*औषधि (बाल कविता)*
*औषधि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Active रहने के बावजूद यदि कोई पत्र का जवाब नहीं देता तो वह म
Active रहने के बावजूद यदि कोई पत्र का जवाब नहीं देता तो वह म
DrLakshman Jha Parimal
Loading...