Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

“” *तस्वीर* “”

“” तस्वीर “”
***********

( 1 )” “, तत्त्वत:
जो दिखता तस्वीर में,
शायद, उससे हूँ मैं बेहतर !
ये मेरा छायाचित्र नहीं, बल्कि…..,
गया उकेरा हूँ एक चित्रकार की नजर !!

( 2 ) ” स् “,स्वयं
को स्वयं से जानना,
और समझना है आसां नहीं !
पहले, इसके कि, हम जानें स्वयं को.,
देखना पड़ता स्वयंको बनके दृष्टा यहीं !!

( 3 ) ” वी “, वीक्षणीय
है स्वयं को देखना,
और परखना समय-असमय पे !
कब क्या कैसे हो रहा परिवर्तन….,
है ये सब जानना, जरूरी यहाँ पे !!

( 4 ) ” “, रहिए
सदैव बनके जागरूक,
और खोजते रहें स्वयं को स्वयं से !
हो जाएंगे आप ये सब देख-जान विस्मित..,
कि,ये हो रहे परिवर्तन हैं सभी कुछ हटके!!

( 5 ) ” तस्वीर “, तस्वीर में
अपनी ही तस्वीर ढूंढ़ता,
खोजता हूँ, सदा अपने अक़्स को !
यहाँ खुद का खुद से परिचय करवाना,
उससे मिलना और अपने को टटोलना..,
है एक टेढ़े-मेढे पथ पे चलने जैसा मानो !!

( 6 ) ” तस्वीर “, तस्वीर देख
कभी लगता है जैसे,
कि, स्वयं को लिया है बखूबी पहचान !
किन्तु, अगले ही पल, ये सब लगता बेमानी,
कि,इस स्वयं की खोज में जाऊंगा कहाँ तक,
अब, ये नियति ही जाने, हूँ मैं बना अंजान !!

¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥
* वीक्षणीय: विचार करने योग्य

सुनीलानंद
शुक्रवार,
24 मई, 2024
जयपुर,
राजस्थान |

Language: Hindi
25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वागत है  इस नूतन का  यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2 जून की रोटी.......एक महत्व
2 जून की रोटी.......एक महत्व
Neeraj Agarwal
#आस्था_पर्व-
#आस्था_पर्व-
*प्रणय प्रभात*
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
राम की धुन
राम की धुन
Ghanshyam Poddar
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
गुमनाम 'बाबा'
3022.*पूर्णिका*
3022.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
Shweta Soni
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
प्यार के ढाई अक्षर
प्यार के ढाई अक्षर
Juhi Grover
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
Raju Gajbhiye
One fails forward toward success - Charles Kettering
One fails forward toward success - Charles Kettering
पूर्वार्थ
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भगतसिंह: एक जीनियस
भगतसिंह: एक जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तिरंगा
तिरंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...