Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

तपोवन है जीवन

तपोवन है जीवन ये मरम समझ में आया है
शीत ,ग्रीष्म ,वर्षा ,शरद ऋतु ने ये समझाया है
सब दिन एक से नहीं ही परिवर्तन जीवन की परिभाषा है जीवन के इस निलय में सुख -दूख आना जाना है
नित्य नूतन दिवस में असंख्य सम्भावनाए जन्म लेती है
संध्या तक आते आते असंख्य सम्भावनाए मृत होती है
फिर भी अक्षी ने स्वप्न नहीं छोड़े हैं दिवस बीतने पर भी दिवस नहीं बीते हैं
प्रयास सदा करने को कहती प्रकृति ना जाने कितने मार्ग देती चलने को सदा कहती कुछ उदाहरण सदा ही देती मार्ग में बाधा आ जाए तो तुम बन नीर सदा वहना
अपने लक्ष्य पर पर्वत की तरह अडिग रहना
विचारों को सदा तुम खुला एक अम्बर देना
भाव सदा ही आते- जाते जैसे पवन का हो झोंका
पर तुम उन भावों में मत कहीं ना स्वयं को खो देना
जीवन है जीवन की ही तरह सदा इसे तुम को है जीना
आलिंगन करने आएगी एक दिन तुमको
जीवन की अंतिम कटुता भाव नहीं ये भावनाएं हैं
जीवन सदा इसी क्रम में बढ़ता
जन्म मरण के चक्र में बस ये जीवन है चलता
तुम पार्थ हो नारायण के इतनी बात समझ लो तुम
इस जीवन का मर्म समझ लो तुम
स्वयं की यात्रा स्वयं से ही करनी है ना कोई सगा ना कोई सम्बंधी है नर का रुप धर आए हैं नारायण तक जाना है स्वयं के लिए स्वयं को ही बस चलते ओर चलते जाना है
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

Language: Hindi
1 Like · 377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
पंकज कुमार कर्ण
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
यकीन
यकीन
Dr. Kishan tandon kranti
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
परमपिता तेरी जय हो !
परमपिता तेरी जय हो !
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
इंसान को,
इंसान को,
नेताम आर सी
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
Rituraj shivem verma
■ जंगल में मंगल...
■ जंगल में मंगल...
*प्रणय प्रभात*
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
Ravi Prakash
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
sudhir kumar
मान तुम प्रतिमान तुम
मान तुम प्रतिमान तुम
Suryakant Dwivedi
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
ऑन लाइन पेमेंट
ऑन लाइन पेमेंट
Satish Srijan
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
मन की पीड़ा क
मन की पीड़ा क
Neeraj Agarwal
Loading...