Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

तन से अपने वसन घटाकर

गीत
तन से अपने वसन घटाकर
जयती जयती बोल रहे हैं
गिरने को आतुर है गंगा
पग धरती के डोल रहे हैं।

ह्रास सभी पनघट पर देखा
गागर ऊंची तन पर छींटा
अलबेली यह मस्त सुहानी
सब आँखों में घोल रहे हैं।

माना जग में बहुत कुहासा
चढ़ती धूप, मुसाफिर प्यासा
रोटी की है जुगत निराली
किस्मत के ही झोल रहे हैं।

देखा यौवन, और बुढ़ापा
ज्यूँ खाते सब दही-बताशा
शुभ लाभ की देखो घड़ियाँ
सुइयों से ही तोल रहे हैं।।

टूटे साज़, थिरकती उंगली
सुन ले, सुन ले, तू ओ पगली
अब बातों में प्रीत कहाँ रे
हाट-हाट सब मोल रहे हैं।।
सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
लक्ष्मी सिंह
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
देखने का नजरिया
देखने का नजरिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गिल्ट
गिल्ट
आकांक्षा राय
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
The bestest education one can deliver is  humanity and achie
The bestest education one can deliver is humanity and achie
Nupur Pathak
*वहीं पर स्वर्ग है समझो, जहाँ सम्मान नारी का 【मुक्तक】*
*वहीं पर स्वर्ग है समझो, जहाँ सम्मान नारी का 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
कृषक
कृषक
Shaily
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
साधना
साधना
Vandna Thakur
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
Mukesh Jeevanand
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
Loading...