Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

ढूँढ रहा हूँ तुम्हें ( स्मृति गीत)

ढूँढ रहा हूँ तुम्हें ( स्मृति गीत)
**********************
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें हवा, निर्मल-जल की लहरों में
(1)
कभी देखता हूँ नीला-नभ, दूर – दूर तक फैला
कभी घिरा काले -सफेद, बादल से यह मटमैला
घटता-बढ़ता चाँद गगन में, कितनी बार निहारा
कितनी दूर -पास है यह धरती से सोचा तारा
ढूँढ़ रहा हूँ तुम्हें रात में, दिन की दोपहरों में
(2)
कभी देखता हूँ छोटे, बच्चे हॅंसते-मुस्काते
हरे सुकोमल पत्ते, पेड़ों की डाली पर आते
चिड़िया कोयल कौवा नभ में, कभी देखता गाते
कभी देखता हूँ नभ को, जल की बूँदे बरसाते
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें देस-परदेस गाँव -शहरों में
(3)
नया रूप नूतन-तन लेकर, कहाँ बसे बतलाओ ?
कौन सुवासित हुआ लोक, तुम जहॉं हँसे बतलाओ ?
वस्तु जगत में नहीं सुलभ वह, जो तुम तक पहुँचाऊँ
पंख नहीं हैं उड़ूँ गगन में, सात-लोक तक जाऊँ
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें साँस के, अंतरतम पहरों में
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें हवा, निर्मल-जल की लहरों में
————————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मत छोड़ो गॉंव
मत छोड़ो गॉंव
Dr. Kishan tandon kranti
उसे तो आता है
उसे तो आता है
Manju sagar
दुनिया में कुछ भी बदलने के लिए हमें Magic की जरूरत नहीं है,
दुनिया में कुछ भी बदलने के लिए हमें Magic की जरूरत नहीं है,
Sunil Maheshwari
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
आर.एस. 'प्रीतम'
स्वयं से करे प्यार
स्वयं से करे प्यार
Dr fauzia Naseem shad
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
VINOD CHAUHAN
जीवन पथ
जीवन पथ
Dr. Rajeev Jain
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
Ravi Prakash
हे मात भवानी...
हे मात भवानी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
Lokesh Sharma
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
Dr. Man Mohan Krishna
अच्छी यादें सम्भाल कर रखा कीजिए
अच्छी यादें सम्भाल कर रखा कीजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
2683.*पूर्णिका*
2683.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
हासिल-ए-ज़िंदगी फ़क़त,
हासिल-ए-ज़िंदगी फ़क़त,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...