Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

एहसास होते हैं एक पुरुष और स्त्री के
तब आपस में बात होती है ।
हमेशा कोई रिश्ता ही नहीं बनता के
किसी मतलब से मुलाकात होती है ।
गुफ्तगू कुछ पल की हो या के
कुछ दिन की या सालों की ।
किसी से मिलना इस जमाने में
बहुत बड़ी बात होती है ।
तुम नहीं चाहते अब
बात करना तो कोई शिकायत नहीं ।
मन भर गया होगा , होता है ,
इस में क्या मैं इस बात से आहत नहीं ।
याद आएगी तो आती रहे ,
अब यादों को तो रोक नहीं सकते ।
तुम मिलते थे तो अच्छा लगता था ।
अब तुमको टोंक नहीं सकते ।
एक अबोध बालक

3 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
Vivek Ahuja
3551.💐 *पूर्णिका* 💐
3551.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"तोहफा"
Dr. Kishan tandon kranti
रम्मी खेलकर लोग रातों रात करोड़ पति बन रहे हैं अगर आपने भी स
रम्मी खेलकर लोग रातों रात करोड़ पति बन रहे हैं अगर आपने भी स
Sonam Puneet Dubey
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ शुभ धन-तेरस।।
■ शुभ धन-तेरस।।
*प्रणय प्रभात*
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
वंदनीय हैं मात-पिता, बतलाते श्री गणेश जी (भक्ति गीतिका)
वंदनीय हैं मात-पिता, बतलाते श्री गणेश जी (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
Sanjay ' शून्य'
नव वर्ष गीत
नव वर्ष गीत
Dr. Rajeev Jain
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
Confession
Confession
Vedha Singh
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
मैने थोडी देर कर दी,तब तक खुदा ने कायनात बाँट दी।
मैने थोडी देर कर दी,तब तक खुदा ने कायनात बाँट दी।
Ashwini sharma
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
प्रेरक गीत
प्रेरक गीत
Saraswati Bajpai
Loading...