Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

डरो नहीं, लड़ो

डरो नहीं, लड़ो
मरो नहीं, लड़ो…
(१)
क़ब्र में जाकर
सड़ो नहीं, लड़ो…
(२)
आंखों में आंसू
भरो नहीं, लड़ो…
(३)
कोई बुजदिली
करो नहीं, लड़ो…
(४)
लाश की तरह
पड़ो नहीं, लड़ो…
(५)
मारे शर्म के
गड़ो नहीं, लड़ो…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#इंकलाब #हल्ला_बोल #बगावत
#क्रांतिकारी #fighter #bollywood
#protest #lyricist #suicide #ST
#आत्महत्या #खुदकुशी #संघर्ष #दलित

Language: Hindi
399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
दे ऐसी स्वर हमें मैया
दे ऐसी स्वर हमें मैया
Basant Bhagawan Roy
"बड़े-बड़े डेम, बिल्डिंग, पाइप-लाइन लीक हो जाते हैं। पेपर लीक
*प्रणय प्रभात*
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
3459🌷 *पूर्णिका* 🌷
3459🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
*कंचन काया की कब दावत होगी*
*कंचन काया की कब दावत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुझे फर्क पड़ता है।
मुझे फर्क पड़ता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
शेखर सिंह
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
ज़िम्मेदार कौन है??
ज़िम्मेदार कौन है??
Sonam Puneet Dubey
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
कवि रमेशराज
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
अंतर्मन
अंतर्मन
गौरव बाबा
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की गाँठें
मन की गाँठें
Shubham Anand Manmeet
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
नैनो में सलोने सपन भी ख़ूब जगाते हैं,
नैनो में सलोने सपन भी ख़ूब जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
सर्द आसमां में दिखती हैं, अधूरे चाँद की अंगड़ाईयाँ
सर्द आसमां में दिखती हैं, अधूरे चाँद की अंगड़ाईयाँ
Manisha Manjari
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...