Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)

दाँद परी सो
चुरे घाम में
जड़कारें में जड़याने ।

सूँकौ-तींतौ
जैसें-तैसें कट गव
कक्का बसकारौ,
उन्ना-लत्ता
की छौंटई है कैसें
कट है जड़कारौ ।

पुचकी घेंटी,
सूकीं बालें,
पत्ता सबरे तुतलाने ।

कुहल,ओस कौ
कहल मचौ है
दुफरै दूबा जड़यानी,
सुर्रक-घुर्रक
फसी गरे में
खाँसी बनकें पुठयानी ।

फूल-फूल झर
गय हैं सबरे
पत्ता-पत्ता मुरझाने ।

कुआ रीत गव,
मोटर बर गई
और नाजलें ऐंड़ानी,
मूड़ मुड़ाई ओरे
पर गय,फूट
खपरिया खुनयानी ।

फन कुकरे औ’
जहर सूक गव
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने ।

दाँद परी सो
चुरे घाम में
जड़कारे में जड़याने ।
०००
—– ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।
मो.- 8463884927

Language: Hindi
Tag: गीत
7 Likes · 16 Comments · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
Ranjeet kumar patre
"बल"
Dr. Kishan tandon kranti
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पछतावे की अग्नि
पछतावे की अग्नि
Neelam Sharma
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
Shweta Soni
सच
सच
Neeraj Agarwal
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सरकारी दामाद
सरकारी दामाद
पूर्वार्थ
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मन की गाँठें
मन की गाँठें
Shubham Anand Manmeet
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
कुछ करा जाये
कुछ करा जाये
Dr. Rajeev Jain
*लिखी डायरी है जो मैंने, कभी नहीं छपवाना (गीत)*
*लिखी डायरी है जो मैंने, कभी नहीं छपवाना (गीत)*
Ravi Prakash
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
Anamika Tiwari 'annpurna '
Loading...