Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2018 · 1 min read

*डमरू-घनाक्षरी*

(३२ वर्ण लघु बिना मात्रा के ८,८,८,८ पर यति प्रत्येक चरण में )

(१)
नभ गरजत जल, छम छम बरसत,
टप टप पड़ पड़, जल भर घर तर।
बरबस जल अब, छत पर टपकत ,
चलत न पग सब, डग पर तम भर।।

(२)
भगवत जप कर, रब सब तम हर,
चलत न रब सह, अब कर पकड़त।
सब जन कह अब, करत रब नमन,
तन मन पर अब,
रब चरण पड़त।।

रंजना माथुर
दिनांक 18/04/2018
जयपुर (राजस्थान)
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*छतरी (बाल कविता)*
*छतरी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
,,,,,,
,,,,,,
शेखर सिंह
🙅चुनावी साल🙅
🙅चुनावी साल🙅
*प्रणय प्रभात*
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज के समाज का यही दस्तूर है,
आज के समाज का यही दस्तूर है,
Ajit Kumar "Karn"
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
Atul "Krishn"
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कविता : चंद्रिका
कविता : चंद्रिका
Sushila joshi
बुंदेली दोहे- नतैत (रिश्तेदार)
बुंदेली दोहे- नतैत (रिश्तेदार)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम पर एहसान
हम पर एहसान
Dr fauzia Naseem shad
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
आंधियों में गुलशन पे ,जुल्मतों का साया है ,
आंधियों में गुलशन पे ,जुल्मतों का साया है ,
Neelofar Khan
तुम्हीं मेरा रस्ता
तुम्हीं मेरा रस्ता
Monika Arora
संघर्ष हमेशा खाली पन में ही अक्सर होता है
संघर्ष हमेशा खाली पन में ही अक्सर होता है
पूर्वार्थ
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
सत्य कुमार प्रेमी
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शादाब रखेंगे
शादाब रखेंगे
Neelam Sharma
Loading...