Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

” टैगोर “

“” टैगोर “”
*********

कवि
हृदय थे टैगोरजी हमारे,
बन प्रकृतिस्थ , जीया जीवन यहाँ पर !
देखा इन्होंने अपने आस-पास जो भी..,
उनके चित्र बना, रचते गए गीत सुंदर !! 1 !!

छवि
बसी है रविंद्रनाथ टैगोरजी की,
हरेक भारतीय जन-मन के हृदय में !
नित चलें इनके गीतों को गाते यहाँ पे..,
और इनकी मधुर स्मृतियों को याद करते !! 2 !!

रवि
किरणों सी थी इनमें गर्माहट,
चले भरते युवाओं में ऊर्जावान स्वर !
और हर भोर की प्रथम किरणों के संग-संग,
टैगोरजी करते थे शुरूआत साहित्यिक सफ़र की !! 3!!

हवि
करते चले सदैव टैगोरजी ,
और देशसेवा में देते रहे अपनी आहूति !
लगाए चले देशभक्ति की यहाँ पर टेर….,
रचके जन-गण-मन गीत करी जन जाग्रति! 4!!

अवि
टैगोर थे भारत के राष्ट्रकवि ,
गए रच प्रसिद्ध गीत ‘ गीतांजलि ‘, काव्य !
हुए पूरे विश्व में प्रसिद्ध रविंद्रनाथजी …,
होकर पुरस्कृत नोबेल से, बसे सबके हिय!! 5!!

* हवि : हवन / यज्ञ
* अवि : सम्राट
¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥

सुनीलानंद
शुक्रवार,
10 मई, 2024
जयपुर,
राजस्थान |

Language: Hindi
33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम इतने आजाद हो गये हो
तुम इतने आजाद हो गये हो
नेताम आर सी
अपने कदमों को
अपने कदमों को
SHAMA PARVEEN
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
पर्यावरण
पर्यावरण
Madhavi Srivastava
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
sudhir kumar
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बड़ा मज़ा आता है,
बड़ा मज़ा आता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
3056.*पूर्णिका*
3056.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Kishan tandon kranti
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
Subhash Singhai
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
रवींद्र नाथ टैगोर
रवींद्र नाथ टैगोर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Loading...