Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

*ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं (गीत)*

ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं (गीत)
————————————————-
ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं
( 1 )
बचपन बीता गई जवानी , अब हो गए बड़े हैं
साठ साल के हुए , बुढ़ापे के ज्यों द्वार खड़े हैं
कितने अच्छे हैं पेड़ों पर, जो भी फूल खिले हैं
( 2 )
यह बूढ़ापन दस्तक देकर, कहता अंत समय है
यह बतलाता हमें सूर्य का, उदय-अस्त सब तय है
पीले पत्ते गिरे हवा से, जब भी पेड़ हिले हैं
( 3 )
एक-एक कर सबको आकर, अपना हुनर दिखाना
रंगमंच से इस दुनिया के, फिर ओझल हो जाना
मिटते जाते सभी रोज, झोपड़ियाँ और किले हैं
ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं
———————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
Tag: गीत
155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ललकार
ललकार
Shekhar Chandra Mitra
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
आया है फागुन आया है
आया है फागुन आया है
gurudeenverma198
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंधेरे आते हैं. . . .
अंधेरे आते हैं. . . .
sushil sarna
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
पुष्प
पुष्प
Dhirendra Singh
2543.पूर्णिका
2543.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
#बोध_काव्य-
#बोध_काव्य-
*Author प्रणय प्रभात*
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
💐अज्ञात के प्रति-61💐
💐अज्ञात के प्रति-61💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
एक सवाल ज़िंदगी है
एक सवाल ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
नीर
नीर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
Loading...