Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

ज्ञान~

ज्ञान~

अधम व नीच आदमी से जो दूर रहता है। वह अकेला जरूर होता है। परंतु पराजित नहीं। उसके साथ लोगों की भीड़ नहीं होती। परंतु एक अदृश्य शक्ति उसके साथ अवश्य होती है।

दिनेश एल० “जैहिंद”

1 Like · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर लो कर्म अभी
कर लो कर्म अभी
Sonam Puneet Dubey
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2698.*पूर्णिका*
2698.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
“नये वर्ष का अभिनंदन”
“नये वर्ष का अभिनंदन”
DrLakshman Jha Parimal
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
"आपका वोट"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
🌸 आने वाला वक़्त 🌸
🌸 आने वाला वक़्त 🌸
Mahima shukla
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
अल्फ़ाजी
अल्फ़ाजी
Mahender Singh
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Labour day
Labour day
अंजनीत निज्जर
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"मन की संवेदनाएं: जीवन यात्रा का परिदृश्य"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ଆମ ଘରର ଅଗଣା
ଆମ ଘରର ଅଗଣା
Bidyadhar Mantry
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...