Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2016 · 1 min read

ज्ञान सिंधु की थाह नहीं है ( लघु गीत ) पोस्ट- २६

ज्ञान सिंधु की थाह नहीं है।
मेरा भी कहना है !!

हमसे आप बडे हैं भाई !
उनसे ओर बडे होंगे !
आज जहॉ भी आप खडे हैं ,
कल को और खडे होंगे ।

छोटी हो या बड़ी किंतु सब —
सरिताओं को बहना है।
ज्ञान सिंधु की थाह नहीं है।
मेरा भी तो कहना है ।।

******** जितेंद्र कमल आनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-290💐
💐प्रेम कौतुक-290💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
Writing Challenge- नायक (Hero)
Writing Challenge- नायक (Hero)
Sahityapedia
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
पेड़
पेड़
Sushil chauhan
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
दुष्यन्त 'बाबा'
याद आती है
याद आती है
Er. Sanjay Shrivastava
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
*कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है (मुक्तक)*
*कभी अनुकूल होती है, कभी प्रतिकूल होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रात
रात
SHAMA PARVEEN
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
" तुम्हारे संग रहना है "
DrLakshman Jha Parimal
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
VINOD CHAUHAN
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...