Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं

जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
मंजिल उनको ही मिलती है जो करते बन्द प्रयास नहीं
जो हार मान लेते मन में, जिनका प्रयास रुक जाता है
वे हतभागी कर सकते हैं जीवन में कभी विकास नहीं ।

— महेशचन्द्र त्रिपाठी

333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महेश चन्द्र त्रिपाठी
View all
You may also like:
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
Ravi Prakash
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Swami Ganganiya
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
"वक्त"
Dr. Kishan tandon kranti
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
you don’t need a certain number of friends, you just need a
you don’t need a certain number of friends, you just need a
पूर्वार्थ
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
चलो चाय पर करने चर्चा।
चलो चाय पर करने चर्चा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
राम नाम  हिय राख के, लायें मन विश्वास।
राम नाम हिय राख के, लायें मन विश्वास।
Vijay kumar Pandey
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...