Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते

ग़ज़ल
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
तो हँस के कहने लगे हां! नहीं नहीं रखते

वो जिसको शौक़ है ख़ाना-बदोशी का उसको
हम अपने दिल में तो हरगिज़ मकीं नहीं रखते

पलें जहाँ पे सपोले कलाई डसने लगें
कुशादा इतनी भी हम आस्तीं नहीं रखते

जहाँ पे झुकता है दिल सर वहीं पे झुकता है
हर एक दर पे तो हम ख़म जबीं नहीं रखते

ये चींटियाँ न कहीं पीछे अपने पड़ जायें
लबों पे अपने तभी अंग्बीं नहीं रखते

‘अनीस’ उनका फिसलना तो एक दिन तय है
जो अपने पाँव के नीचे ज़मीं नहीं रखते
– अनीस शाह अनीस

अंग्बीं=शहद

Language: Hindi
1 Like · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
"चाँद को देखकर"
Dr. Kishan tandon kranti
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
*उपजा पाकिस्तान, शब्द कैसे क्यों आया* *(कुंडलिया)*
*उपजा पाकिस्तान, शब्द कैसे क्यों आया* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
चील .....
चील .....
sushil sarna
मेरी समझ में आज तक
मेरी समझ में आज तक
*Author प्रणय प्रभात*
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं  मैं।
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
Pakhi Jain
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
*Eternal Puzzle*
*Eternal Puzzle*
Poonam Matia
तेरी मुस्कान होती है
तेरी मुस्कान होती है
Namita Gupta
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
पूर्वार्थ
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...