Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2024 · 1 min read

जीवन वो कुरुक्षेत्र है,

जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
जहाँ नित्य संग्राम ।
जब तक तन में साँस है ,
मिले नहीं विश्राम ।।

सुशील सरना / 3-3-24

80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
if you love me you will get love for sure.
if you love me you will get love for sure.
पूर्वार्थ
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
*Flying Charms*
*Flying Charms*
Poonam Matia
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
देश के वासी हैं
देश के वासी हैं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*जमानत : आठ दोहे*
*जमानत : आठ दोहे*
Ravi Prakash
घाव करे गंभीर
घाव करे गंभीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
Arvind trivedi
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
"बल"
Dr. Kishan tandon kranti
हाशिए के लोग
हाशिए के लोग
Shekhar Chandra Mitra
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
Paras Nath Jha
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...