Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।

जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।

403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
तेरे सांचे में ढलने लगी हूं।
तेरे सांचे में ढलने लगी हूं।
Seema gupta,Alwar
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
हश्र का वह मंज़र
हश्र का वह मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
"प्यासा"-हुनर
Vijay kumar Pandey
आज़ाद भारत का सबसे घटिया, उबाऊ और मुद्दा-विहीन चुनाव इस बार।
आज़ाद भारत का सबसे घटिया, उबाऊ और मुद्दा-विहीन चुनाव इस बार।
*प्रणय प्रभात*
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
बताइए
बताइए
Dr. Kishan tandon kranti
कोहरा
कोहरा
Dr. Mahesh Kumawat
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
सोच
सोच
Sûrëkhâ
Loading...