Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम

जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम को भी युद्ध में जीत के लिए अनेक लोगों की सहायता लेनी पड़ी थी। केवल संभावना है कि आप मन का युद्ध अकेले लड़ पाएं। पर संभव तो यह भी नहीं, अंतर्द्वंद के लिए भी मन में पक्ष-विपक्ष चाहिए ही होते हैं।
डॉ तबस्सुम जहां

2 Likes · 1349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
माँ
माँ
Arvina
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
कवि रमेशराज
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब क्या करे?
अब क्या करे?
Madhuyanka Raj
जो द्वार का सांझ दिया तुमको,तुम उस द्वार को छोड़
जो द्वार का सांझ दिया तुमको,तुम उस द्वार को छोड़
पूर्वार्थ
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
*Author प्रणय प्रभात*
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
पढ़ लेना मुझे तुम किताबों में..
पढ़ लेना मुझे तुम किताबों में..
Seema Garg
हाथ में खल्ली डस्टर
हाथ में खल्ली डस्टर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे  मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
DrLakshman Jha Parimal
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
yuvraj gautam
Loading...