Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

जीवन पर

जीवन पर अपने ही
उपकार करेंगे ।
सत्य कर्म से अपना
उद्धार करेंगे ।।
हृदय से इस वास्तविकता को
जो स्वीकार करेंगे ।
जीवन ही नहीं मृत्यु को भी
अंगीकार करेंगे ।।

डॉ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
4 Likes · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2715.*पूर्णिका*
2715.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
चुनौती हर हमको स्वीकार
चुनौती हर हमको स्वीकार
surenderpal vaidya
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
सोन चिरैया
सोन चिरैया
Mukta Rashmi
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" जुबां "
Dr. Kishan tandon kranti
बेटी से प्यार करो
बेटी से प्यार करो
Neeraj Agarwal
सवाल जवाब
सवाल जवाब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
किसने तेरा साथ दिया है
किसने तेरा साथ दिया है
gurudeenverma198
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
*तैयारी होने लगी, आते देख चुनाव (कुंडलिया)*
*तैयारी होने लगी, आते देख चुनाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
अपना अपना कर्म
अपना अपना कर्म
Mangilal 713
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...