Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

जीवन का हर वो पहलु सरल है

जीवन का हर वो पहलु सरल है
यदि आपकी शख्सियत जटिल है

दुनिया के लिए थोड़ा सहज होना
ये भविष्य के लिए ज्यादा मुश्किल है

✍️© ‘अशांत’ शेखर
08/02/2023

1 Like · 435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आ गए चुनाव
आ गए चुनाव
Sandeep Pande
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
ईश्वर से बात
ईश्वर से बात
Rakesh Bahanwal
3265.*पूर्णिका*
3265.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़रूरी ना समझा
ज़रूरी ना समझा
Madhuyanka Raj
फितरत
फितरत
Surya Barman
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मन
मन
Neelam Sharma
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
Neet aspirant suicide in Kota.....
Neet aspirant suicide in Kota.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
★
पूर्वार्थ
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
😊#The_One_man_army_of_my_life.…...
😊#The_One_man_army_of_my_life.…...
*प्रणय प्रभात*
Hajipur
Hajipur
Hajipur
गीत
गीत
Shweta Soni
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
*धक्का-मुक्की मच रही, झूले पर हर बार (कुंडलिया)*
*धक्का-मुक्की मच रही, झूले पर हर बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...