Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

जीने की वजह…………..

तुम्हारी नजरो में जो तस्वीर उभर कर आती है
उस तस्वीर में मुझे सूरत अपनी नजर आती है
यदा कदा जब जब भी आते हो मेरे सामने तुम
मुझे हर बार जीने की एक नयी वजह मिल जाती है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _________@

Language: Hindi
Tag: शेर
333 Views
You may also like:
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
आओगे मेरे द्वार कभी
Kavita Chouhan
दो पँक्ति दिल की कलम से
N.ksahu0007@writer
अगर यह मुलाकात ऐसी ना होती
gurudeenverma198
जाम से नही,आंखो से पिला दो
Ram Krishan Rastogi
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
करीब आने नहीं देता
कवि दीपक बवेजा
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
✍️आओ आईना बनकर देखे✍️
'अशांत' शेखर
*चली सुकुमारी खोई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
छंद में इनका ना हो, अभाव
अरविन्द व्यास
खूब परोसे प्यार, खिलाये रोटी माँ ही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज किस्सा हुआ तमाम है।
Taj Mohammad
■ सत्यमेव जयते!!
*Author प्रणय प्रभात*
किस अदा की बात करें
Mahesh Tiwari 'Ayen'
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
पहले प्यार का एहसास
Kaur Surinder
🕯️🕯️मैं चराग़ बनकर जल रहा हूँ🕯️🕯️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
जौदत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नव दीपोत्सव कामना
Shyam Sundar Subramanian
हौसला (हाइकु)
Vijay kumar Pandey
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रलय गीत
मनोज कर्ण
रावण राज
Shekhar Chandra Mitra
करिए विचार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रतीक्षित
Shiva Awasthi
Loading...