Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

जीतना

जीतना
जीतना तो हम भी चाहते हैं,मगर मन को।
पाना तो हम भी चाहते हैं, मगर भगवान को।
जीना तो हम भी चाहते हैं कृष्णा के प्रेम में।
मरने की भी चाह रखते हैं, मगर तेरी भक्ति में।।

1 Like · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हासिल नहीं है कुछ
हासिल नहीं है कुछ
Dr fauzia Naseem shad
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
मोहब्बत तो अब भी
मोहब्बत तो अब भी
Surinder blackpen
सेवा या भ्रष्टाचार
सेवा या भ्रष्टाचार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
भरत कुमार सोलंकी
दूषित न कर वसुंधरा को
दूषित न कर वसुंधरा को
goutam shaw
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
" दीया सलाई की शमा"
Pushpraj Anant
जय श्री गणेशा
जय श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
Subhash Singhai
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
Sukoon
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
Shashi kala vyas
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
■ मुफ़्तखोरों और जुमलेबाज़ों का मुल्क़।
■ मुफ़्तखोरों और जुमलेबाज़ों का मुल्क़।
*प्रणय प्रभात*
When you remember me, it means that you have carried somethi
When you remember me, it means that you have carried somethi
पूर्वार्थ
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
2431.पूर्णिका
2431.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"" *मन तो मन है* ""
सुनीलानंद महंत
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
Loading...