Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

जीतना

जीतना
जीतना तो हम भी चाहते हैं,मगर मन को।
पाना तो हम भी चाहते हैं, मगर भगवान को।
जीना तो हम भी चाहते हैं कृष्णा के प्रेम में।
मरने की भी चाह रखते हैं, मगर तेरी भक्ति में।।

1 Like · 75 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
बालिका दिवस
बालिका दिवस
Satish Srijan
तुम्हारा साथ
तुम्हारा साथ
Ram Krishan Rastogi
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
कौन सोचता है
कौन सोचता है
Surinder blackpen
यह धरती भी तो
यह धरती भी तो
gurudeenverma198
चुनौती हर हमको स्वीकार
चुनौती हर हमको स्वीकार
surenderpal vaidya
नई दिल्ली
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
कूड़े के ढेर में भी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
"आग और पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
तोड़ न कोई राम का, निर्विकल्प हैं राम।
तोड़ न कोई राम का, निर्विकल्प हैं राम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
🌺प्रेम कौतुक-206🌺
🌺प्रेम कौतुक-206🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंकुर
अंकुर
manisha
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
वीर हनुमान
वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
Upasana Upadhyay
*मध्यमवर्ग तबाह, धूम से कर के शादी (कुंडलिया)*
*मध्यमवर्ग तबाह, धूम से कर के शादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
DrLakshman Jha Parimal
■ होली की ठिठोली...
■ होली की ठिठोली...
*Author प्रणय प्रभात*
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
Loading...