Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!

जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
उसको क्या मिटाएगी साजिशे इस दुनिया की.!!

28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
दो शब्द
दो शब्द
Ravi Prakash
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
*नई मुलाकात *
*नई मुलाकात *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
■ खाने दो हिचकोले👍👍
■ खाने दो हिचकोले👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
एक तरफ़ा मोहब्बत
एक तरफ़ा मोहब्बत
Madhuyanka Raj
"याद"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
2432.पूर्णिका
2432.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वफ़ा का इनाम तेरे प्यार की तोहफ़े में है,
वफ़ा का इनाम तेरे प्यार की तोहफ़े में है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
हिय  में  मेरे  बस  गये,  दशरथ - सुत   श्रीराम
हिय में मेरे बस गये, दशरथ - सुत श्रीराम
Anil Mishra Prahari
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देर तक मैंने आईना देखा
देर तक मैंने आईना देखा
Dr fauzia Naseem shad
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
Paras Nath Jha
जीवन का प्रथम प्रेम
जीवन का प्रथम प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
Praveen Sain
Loading...