Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,

जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
झूठ और नाटक से जो इज्जत कमाई हो।
वो क्या जाने गुरबतों की जिल्लतों को,
छोड़कर मां बाप को जो घर जमाई हो।।

1 Like · 493 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
*My Decor*
*My Decor*
Poonam Matia
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
गोविंदा श्याम गोपाला
गोविंदा श्याम गोपाला
Bodhisatva kastooriya
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
Ravi Prakash
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
दोस्ती के नाम.....
दोस्ती के नाम.....
Naushaba Suriya
सभी फैसले अपने नहीं होते,
सभी फैसले अपने नहीं होते,
शेखर सिंह
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
Ranjeet kumar patre
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Sakshi Tripathi
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
गीत
गीत
Shiva Awasthi
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
Phool gufran
रिश्तों में वक्त
रिश्तों में वक्त
पूर्वार्थ
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
#सामयिक_व्यंग्य...
#सामयिक_व्यंग्य...
*Author प्रणय प्रभात*
2386.पूर्णिका
2386.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
Loading...