Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,

जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
उससे विलग न कोई जग में कहीं खुदा है।
सौंपोगे किसे जीवन, जीवन तुम्हारा है क्या?
नादानियां भुला दो, कोई न गुमशुदा है ।।

— महेश चन्द्र त्रिपाठी

416 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महेश चन्द्र त्रिपाठी
View all
You may also like:
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
* गीत मनभावन सुनाकर *
* गीत मनभावन सुनाकर *
surenderpal vaidya
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
खेत रोता है
खेत रोता है
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
अपनी मर्ज़ी
अपनी मर्ज़ी
Dr fauzia Naseem shad
पहली बैठक
पहली बैठक "पटना" में
*प्रणय प्रभात*
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
Manoj Mahato
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
बदलाव
बदलाव
Dr. Rajeev Jain
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
sushil sarna
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
Harminder Kaur
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
*** भूख इक टूकड़े की ,कुत्ते की इच्छा***
*** भूख इक टूकड़े की ,कुत्ते की इच्छा***
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
नज़र चुरा कर
नज़र चुरा कर
Surinder blackpen
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...