Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि

जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि वे आपके जुनून के पथ par हल्ला करने आ जाएँ,
आपके हिम्मत तथा कर्मठ आचरण के आगे तो स्वयं विधाता भी आपको पुरस्कृत किए बिना मुँह नही फेर पाएँगे।

1 Like · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
■ स्वाद के छह रसों में एक रस
■ स्वाद के छह रसों में एक रस "कड़वा" भी है। जिसे सहज स्वीकारा
*प्रणय प्रभात*
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
Shiva Awasthi
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
शृंगार छंद और विधाएँ
शृंगार छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मानवता का मुखड़ा
मानवता का मुखड़ा
Seema Garg
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसका अपना कोई
उसका अपना कोई
Dr fauzia Naseem shad
बादल
बादल
Shankar suman
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
Meenakshi Masoom
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
* पिता पुत्र का अनोखा रिश्ता*
* पिता पुत्र का अनोखा रिश्ता*
पूर्वार्थ
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2781. *पूर्णिका*
2781. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...