Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे

जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे

अब तो मौत भी ,
अपनी राह हमसे बदल लेती है ।

186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय जगन्नाथ भगवान
जय जगन्नाथ भगवान
Neeraj Agarwal
आज़ के पिता
आज़ के पिता
Sonam Puneet Dubey
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
इंसानियत का एहसास
इंसानियत का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
3310.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3310.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*चित्र में मुस्कान-नकली, प्यार जाना चाहिए 【हिंदी गजल/ गीतिका
*चित्र में मुस्कान-नकली, प्यार जाना चाहिए 【हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
बहुत
बहुत
sushil sarna
निगाहें
निगाहें
Sunanda Chaudhary
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
gurudeenverma198
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दूषित न कर वसुंधरा को
दूषित न कर वसुंधरा को
goutam shaw
Never forget
Never forget
Dhriti Mishra
Loading...