Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

जिज्ञासा

जिज्ञासा

मेरे एक मित्र हैं बड़े सरल स्वभाव के व्यक्ति,
उनकी बार बार प्रश्न पूछते रहने की है प्रवृति।

मुझसे बोले, ” यह कैसा है उदेश्यों का दंगल!
विश्व के विज्ञानी खोज रहे हैं मंगल पर जीवन
और जीवन खोज रहा हैं धरती पर मंगल?

मैनें कहा,” नहीं है असल में उदेश्यों का आपस में कोई संघर्ष,
आवश्यक है अनुसन्धान ताकि हो विश्व का कल्याण और उत्कर्ष ”

फिर बोले, ” सुना है की अब ‘ स्लीपिंग मोड ‘ में चला गया है चंद्रयान,
क्या होता है ‘ स्लीपिंग मोड ‘ इसका कुछ सरल शब्दों में दीजिये ज्ञान।

मैंने बताया,” प्रतिकूल परिवेश में चंद्रयान कुछ काल के लिये कार्य नहीं कर पाता,
इस निष्क्रियता की सुप्त अवस्था को ‘ स्लीपिंग मोड ‘ परिभाषित है किया जाता।”

मुझे ऐसा प्रतीत हुआ संभवतः मेरा उत्तर उन्हें पूर्ण संतुष्ट नहीं कर पाया,
इसलिये उन्होनें यह प्रश्न अपने एक हास्यप्रिय नेता मित्र के समक्ष दोहराया।

विनोदी नेता जी के मन को विषय बहुत पसंद आया ,
उन्होंने अपने विशेष अंदाज में मित्र को समझाया –

” चुनाव में सफल होने के उपरांत हमारे में से कुछ लोग स्लीपिंग मोड में चले जाते हैं,
पांच साल के पश्चात् वह सुप्त अवस्था से बाहर आकर फिर से सक्रिय हो जाते हैं।”

मित्र महोदय को नेता जी द्वारा दिया अनुपम दृष्टांत अत्यंत भाया,
और गद गद ह्रदय से उन्होनें नेता जी को अपना आभार जताया।

डॉ हरविंदर सिंह बक्शी
6 -9 -2023

Language: Hindi
143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
मुझे बदनाम करने की कोशिश में लगा है.........,
मुझे बदनाम करने की कोशिश में लगा है.........,
कवि दीपक बवेजा
मस्ती का माहौल है,
मस्ती का माहौल है,
sushil sarna
पुरानी क़मीज़
पुरानी क़मीज़
Dr. Mahesh Kumawat
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
गिरगिट
गिरगिट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ नमी
कुछ नमी
Dr fauzia Naseem shad
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जाने बचपन
जाने बचपन
Punam Pande
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
बेचारे नेता
बेचारे नेता
गुमनाम 'बाबा'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ!मेरी बेटी
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
सिर्फ औरतों के लिए
सिर्फ औरतों के लिए
Dr. Kishan tandon kranti
#सामयिक_रचना
#सामयिक_रचना
*Author प्रणय प्रभात*
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
पूर्वार्थ
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
बुंदेली दोहा- चंपिया
बुंदेली दोहा- चंपिया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैसे लिखूं
कैसे लिखूं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
Loading...