Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2018 · 1 min read

जिजीविषा

#जिजीविषा
अब तो ढर्रे पर ढल गई है जिंदगी।
यूँ ही,काफी दूर तक चल गई है जिंदगी।
जिजीविषा एक मृगतृष्णा सी,भटकती।
हर गली मोहल्ले, चौराहे पे अटकती।
आँखे मूंद-मूंद, स्वाति का एक बूँद,
तलाश में ही बस बहल गई है जिंदगी।
-नवल किशोर सिंह

Language: Hindi
424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
— मैं सैनिक हूँ —
— मैं सैनिक हूँ —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
देन वाले
देन वाले
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदी साहित्य में लुप्त होती जनचेतना
हिंदी साहित्य में लुप्त होती जनचेतना
Dr.Archannaa Mishraa
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुत
बहुत
sushil sarna
बेकरार दिल
बेकरार दिल
Ritu Asooja
"अच्छे साहित्यकार"
Dr. Kishan tandon kranti
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
इश्क की राहों में इक दिन तो गुज़र कर देखिए।
इश्क की राहों में इक दिन तो गुज़र कर देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मौज के दोराहे छोड़ गए,
मौज के दोराहे छोड़ गए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Home Sweet Home!
Home Sweet Home!
R. H. SRIDEVI
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
♥️ दिल की गलियाँ इतनी तंग हो चुकी है की इसमे कोई ख्वाइशों के
♥️ दिल की गलियाँ इतनी तंग हो चुकी है की इसमे कोई ख्वाइशों के
Ashwini sharma
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
3174.*पूर्णिका*
3174.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
★
पूर्वार्थ
#हिरोशिमा_दिवस_आज
#हिरोशिमा_दिवस_आज
*प्रणय प्रभात*
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...