Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

जिंदा होने का सबूत

जिंदा होने का सबूत
—————
“नमस्ते मैनेजर साहब।”
“नमस्ते अंकल जी। कैसे हैं आप ?”
“बढ़िया हूँ बेटा।”
“कैसे आना हुआ आज अंकल जी ?”
“बेटा, जीवित होने का प्रमाण देने आया हूँ।”
“ठीक है अंकल जी। लाइए जीवन प्रमाण-पत्र दे दीजिए।”
“प्रमाण-पत्र ? हाथ कंगन को आरसी क्या और पढ़े-लिखे को फारसी क्या ? मैं खुद खड़ा हूँ आपके सामने। इससे बड़ा और प्रमाण क्या हो सकता है ?”
“देखिए अंकल जी, ऑफिसियल कामकाज ऐसे नहीं होते. पेंशन पाने के लिए आपको जीवन प्रमाण-पत्र किसी भी एक बड़े अधिकारी से सत्यापित कराके जमा कराना पड़ेगा।”
“क्यों भई ? पिछले 9 साल से मैं आपके बैंक में लगातार आ रहा हूँ। आप ही क्यों, इस बैंक के लगभग सभी लोग मुझे पहचानते हैं। आप स्वयं एक बड़े अधिकारी हैं। फिर…”
“देखिए अंकल जी, आप हम लोगों के पर्सनल रिलेशनशिप को ऑफिसियल रिलेशनशिप से मत जोड़िए.”
“फिर क्या करूँ मैं ? आप ही बताइए.”
“आप अपना जीवन प्रमाण-पत्र किसी उच्च अधिकारी या जन प्रतिनिधि से सत्यापित करवा कर जमा कर दीजिए।”
वे सोचने लगे कि यह कैसी विडम्बना है, जिस बैंक के लगभग सभी अधिकारी-कर्मचारी उसे पिछले नौ साल से उनको जानते और मानते हैं, उनके सामने साक्षात खड़ा होना कोई मायने नहीं रखता. उसे जीवित होने का प्रूफ देने के लिए प्रमाण-पत्र देने पड़ेंगे।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता - नदी का वजूद
कविता - नदी का वजूद
Akib Javed
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
घाव करे गंभीर
घाव करे गंभीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
surenderpal vaidya
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार जताना नहीं आता मुझे
प्यार जताना नहीं आता मुझे
MEENU
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
Ravi Prakash
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
दोहा- मीन-मेख
दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इस पार मैं उस पार तूँ
इस पार मैं उस पार तूँ
VINOD CHAUHAN
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
बेइंतहा सब्र बक्शा है
बेइंतहा सब्र बक्शा है
Dheerja Sharma
अपनी नज़र में रक्खा
अपनी नज़र में रक्खा
Dr fauzia Naseem shad
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
Shashi kala vyas
रजा में राजी गर
रजा में राजी गर
Satish Srijan
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
पूर्वार्थ
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Sakshi Tripathi
"ज़हन के पास हो कर भी जो दिल से दूर होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
-मां सर्व है
-मां सर्व है
Seema gupta,Alwar
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
Loading...