Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,

जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
गैरों की गलतियों को ढूंढने से जीवन स्वयं का वहीं बन रहता है।
ना मिलती है तरक्की कभी भी सुकून जीवन में नहीं रहता है,
हो जलन दूसरों की कामयाबी से वो इंसान भी इंसानकहां रहता है ।
-सीमा गुप्ता अलवर राजस्थान

2 Likes · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"राजनीति"
Dr. Kishan tandon kranti
संसद बनी पागलखाना
संसद बनी पागलखाना
Shekhar Chandra Mitra
■ कला का केंद्र गला...
■ कला का केंद्र गला...
*Author प्रणय प्रभात*
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
हर जगह मुहब्बत
हर जगह मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2694.*पूर्णिका*
2694.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
*आवारा कुत्तों से बचना, समझो टेढ़ी खीर (गीत)*
*आवारा कुत्तों से बचना, समझो टेढ़ी खीर (गीत)*
Ravi Prakash
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता
कविता
Rambali Mishra
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
ख्वाहिशों के कारवां में
ख्वाहिशों के कारवां में
Satish Srijan
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
Loading...