Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2017 · 1 min read

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो
जीत की उड़े फुहार भीगते चलो

कोई गलती ऐसी नहीं जिसका ना हल
सही रास्ते को चुन उस पे निकल
दुनिया से डरने का काम नहीं है
रख हौसला औ मजबूत आत्म बल
इसी के सहारे जंग जीतते चलो
जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो।

बिना सीखे जिंदगी का हल नहीं है
हारने वालों का कोई कल नहीं है
वे तो जिंदा लाश के समान हैं यहाँ
जिनके पास स्वाभिमानी जल नहीं है
जीत की पड़े फुहार भीगते चलो
जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो।

गलतियों के डर से ना काम छोड़िए
कुछ ध्यान इस बात पर मोड़िये
लगन व् मेहनत के साथ बढ़कर
मुश्किलों की हर दीवार तोड़िए
सफलता की नई परिभाषा लिखकर
भीड़ से अलग आप दीखते चलो
जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो

Language: Hindi
Tag: गीत
332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
गुजार दिया जो वक्त
गुजार दिया जो वक्त
Sangeeta Beniwal
*पुस्तक*
*पुस्तक*
Dr. Priya Gupta
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
........
........
शेखर सिंह
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
धरती
धरती
manjula chauhan
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
खुद की अगर खुद से
खुद की अगर खुद से
Dr fauzia Naseem shad
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
Neelam Sharma
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
" जिन्दगी के पल"
Yogendra Chaturwedi
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
"बेकसूर"
Dr. Kishan tandon kranti
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
*मारा हमने मूक कब, पशु जो होता मौन (कुंडलिया)*
*मारा हमने मूक कब, पशु जो होता मौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
प्यार की लौ
प्यार की लौ
Surinder blackpen
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
Atul "Krishn"
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
डी. के. निवातिया
Loading...