Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2024 · 1 min read

जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।

जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
कोई तो मोहब्बत करेगी ही एक दिन।
इसलिए हर किसी को परपोज करता हूं।
माना की वो मना कर देगी हमे।
पर कोशिश हर बार करता हूं।
RJ Anand Prajapati

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
Harminder Kaur
मैं प्रेम लिखूं जब कागज़ पर।
मैं प्रेम लिखूं जब कागज़ पर।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
ऐ!मेरी बेटी
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
दिल की बगिया में मेरे फूल नहीं खिल पाए।
दिल की बगिया में मेरे फूल नहीं खिल पाए।
*Author प्रणय प्रभात*
तू है
तू है
Satish Srijan
*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*
*सदियों से सुख-दुख के मौसम, इस धरती पर आते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...