Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

जिंदगी को जीने का तरीका न आया।

जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
पढ़े तो हम खूब पर सलीका न आया।।
ताज मोहम्मद
लखनऊ

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
जाने कहां गई वो बातें
जाने कहां गई वो बातें
Suryakant Dwivedi
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
लक्ष्मी सिंह
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कविता - 'टमाटर की गाथा
कविता - 'टमाटर की गाथा"
Anand Sharma
गांधी का अवतरण नहीं होता 
गांधी का अवतरण नहीं होता 
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ जय हो...
■ जय हो...
*Author प्रणय प्रभात*
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*आम (बाल कविता)*
*आम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हंसते ज़ख्म
हंसते ज़ख्म
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
3195.*पूर्णिका*
3195.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
बेबसी!
बेबसी!
कविता झा ‘गीत’
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
शेखर सिंह
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...