Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2016 · 1 min read

जान बेजान थी मुस्कुराने लगी ।

? सुप्रभात मित्रों ?
एक मुक्तक में प्रकृति चित्रण
??????????????
ओस कणिका गिरी , गुनगुनाने लगी ।

गुनगुनी धुप में , खिलखिलाने लगी ।

अधखिली थी कली पा प्रकृति की छुअन ,

जान बेजान थी , मुस्कुराने लगी ।
??????????????

? वीर पटेल ?

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
221 Views
You may also like:
शिल्प कुशल रांगेय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रतियोगिता
krishan saini
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"शुभ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी" प्यारे कन्हैया बंशी बजइया
Mahesh Tiwari 'Ayen'
हास्य - व्यंग्य
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
दलित उत्पीड़न
Shekhar Chandra Mitra
☀️✳️मैं अकेला ही रहूँगा,तुम न आना,तुम न आना✳️☀️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हारे सिवा भी बहुत है
gurudeenverma198
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“ ईमानदार चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
हम समझते थे
Dr fauzia Naseem shad
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
तूँ मुझमें समाया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल /Arshad Rasool
विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस
Ram Krishan Rastogi
नया नियम है (बाल कविता)
Ravi Prakash
244. "प्यारी बातें"
MSW Sunil SainiCENA
बेटियां।
Taj Mohammad
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
'अशांत' शेखर
कशमकश
Anamika Singh
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें...
Manisha Manjari
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
Loading...