Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2016 · 1 min read

जान बेजान थी मुस्कुराने लगी ।

? सुप्रभात मित्रों ?
एक मुक्तक में प्रकृति चित्रण
??????????????
ओस कणिका गिरी , गुनगुनाने लगी ।

गुनगुनी धुप में , खिलखिलाने लगी ।

अधखिली थी कली पा प्रकृति की छुअन ,

जान बेजान थी , मुस्कुराने लगी ।
??????????????

? वीर पटेल ?

Language: Hindi
319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ज़ईफ़ी में ग़रचे दिमाग़ी तवाज़ुन, सलामत रहे तो समझ लीजिएगा।
ज़ईफ़ी में ग़रचे दिमाग़ी तवाज़ुन, सलामत रहे तो समझ लीजिएगा।
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
मां की शरण
मां की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*देश का हिंदी दिवस, सबसे बड़ा त्यौहार है (गीत)*
*देश का हिंदी दिवस, सबसे बड़ा त्यौहार है (गीत)*
Ravi Prakash
दूब घास गणपति
दूब घास गणपति
Neelam Sharma
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
अंसार एटवी
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
पुरुष का दर्द
पुरुष का दर्द
पूर्वार्थ
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
मां ब्रह्मचारिणी
मां ब्रह्मचारिणी
Mukesh Kumar Sonkar
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
Surinder blackpen
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
"मेला"
Dr. Kishan tandon kranti
3109.*पूर्णिका*
3109.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
Ragini Kumari
💐प्रेम कौतुक-560💐
💐प्रेम कौतुक-560💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
निशांत 'शीलराज'
तुम से सुबह, तुम से शाम,
तुम से सुबह, तुम से शाम,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी
नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी
gurudeenverma198
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...