Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

जानो आयी है होली

जानो आयी है होली
—————————
गुन गुन करता भाख रहा हो,पकवानों को पाक रहा हो,
घूंघट से कोई झाँक रहा हो,खोल किवाड़े ताक रहा हो।
इतने पर कोई आ जाएं,जिसे देख गोरी शरमाये।
साजन बोले मीठी बोली।तो जानो आयी है होली।

अमराई में बौर टंगे हों,फागों के कई दौर लगे हों,
चल रही धीम बयार कहीं गर,हो रही सुगन्ध पसार कहीं गर।
हरी डाल लें रही हो झटके,मधुमक्खी छत्ता यूँ लटके।
लगता लटकी काली झोली।तो जानो आयी है होली।

झुकी हुई हों गेहूं बालें,गलबहियां सरसों से डाले,
महुवा गुच्छे में फूले हों,उन पर बहु भाँवरे झूले हों।
सजनी द्वार बुहार रही हो,मन में कर मनुहार रही हो।
साजन कर दे हसीं ठिठोली।तो जानो आयी है होली।

चारों ओर मचे खग चहकन,पायल बोले छन छन छन छन,
परदेशी घर वापस आये,मुश्काये तो मन को भाये।
चुपके से दर्पण के आगे,देख देख सजनी शरमाये।
पहने रंग विरंगी चोली।तो जानो आयी है होली।

फागुन है ख़ूब होली खेलो,प्रेम गुलाल कहीं हो ले लो।
‘सृजन’ चार दिनों का पन है,पल पल बीत रहा यौवन है।
कभी कभी परमार्थ कमा कर,राम नाम का दाम जमा कर।जब
जीवन बने चन्दन रोली।तो जानो आयी है होली।

-सतीश सृजन

Language: Hindi
1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
*आर्य समाज और थियोसॉफिकल सोसायटी की सहयात्रा*
*आर्य समाज और थियोसॉफिकल सोसायटी की सहयात्रा*
Ravi Prakash
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
छिपे दुश्मन
छिपे दुश्मन
Dr. Rajeev Jain
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
it is not about having a bunch of friends
it is not about having a bunch of friends
पूर्वार्थ
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
Adha Deshwal
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
धधक रही हृदय में ज्वाला --
धधक रही हृदय में ज्वाला --
Seema Garg
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...