Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2024 · 1 min read

ज़िन्दगी,

ज़िन्दगी,
सब एक सफर है
जहाँ विराम लग जाये
वहीं ज़िन्दगी खत्म

1 Like · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
बीच-बीच में
बीच-बीच में
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सहधर्मनी
सहधर्मनी
Bodhisatva kastooriya
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
2497.पूर्णिका
2497.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"साये"
Dr. Kishan tandon kranti
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
पूर्वार्थ
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...