Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

ज़िंदगी बहुत आसान

“ज़िंदगी बहुत आसान हो जाए
अगर हम खुद को और दूसरों को
जैसे हैं वैसे ही रहने दें ।”

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
8 Likes · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
दोस्ती क्या है
दोस्ती क्या है
VINOD CHAUHAN
कौन है जिम्मेदार?
कौन है जिम्मेदार?
Pratibha Pandey
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
Ravi Prakash
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
मैं कभी तुमको
मैं कभी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
प्यार
Kanchan Khanna
शिव शंभू भोला भंडारी !
शिव शंभू भोला भंडारी !
Bodhisatva kastooriya
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
Rj Anand Prajapati
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*Author प्रणय प्रभात*
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
3158.*पूर्णिका*
3158.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
सादगी मशहूर है हमारी,
सादगी मशहूर है हमारी,
Vishal babu (vishu)
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कलयुग और सतयुग
कलयुग और सतयुग
Mamta Rani
"भरोसा"
Dr. Kishan tandon kranti
किताब
किताब
Sûrëkhâ
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...