Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

ज़िंदगी इम्तिहान

वक़्त था जो, वो गुज़रता रहा ।
जिन्दगी इम्तिहान लेती रही ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
15 Likes · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
गहरा है रिश्ता
गहरा है रिश्ता
Surinder blackpen
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
हाथ की लकीरें
हाथ की लकीरें
Mangilal 713
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
सुख -दुख
सुख -दुख
Acharya Rama Nand Mandal
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
कुछ लोग हेलमेट उतारे बिना
कुछ लोग हेलमेट उतारे बिना
*Author प्रणय प्रभात*
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
*भगत सिंह हूँ फैन  सदा तेरी शराफत का*
*भगत सिंह हूँ फैन सदा तेरी शराफत का*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
संविधान  की बात करो सब केवल इतनी मर्जी  है।
संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
DrLakshman Jha Parimal
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
सम्मान
सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
gurudeenverma198
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
Loading...