Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2023 · 1 min read

ज़रूरत के तकाज़ो पर

ईमान भी बिक जाता है
ज़रूरत के तकाज़ो पर ।
सच के लिए इस दौर में,
अब मरता नहीं कोई ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
समझदारी का तो पूछिए ना जनाब,
समझदारी का तो पूछिए ना जनाब,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
"ओखली"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
सुबह की पहल तुमसे ही
सुबह की पहल तुमसे ही
Rachana Jha
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरे बाद
तेरे बाद
Surinder blackpen
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
ढलता सूरज वेख के यारी तोड़ जांदे
ढलता सूरज वेख के यारी तोड़ जांदे
कवि दीपक बवेजा
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
#लानत_के_साथ...
#लानत_के_साथ...
*Author प्रणय प्रभात*
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
VINOD CHAUHAN
सोच समझकर कीजिए,
सोच समझकर कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख़्वाब सजाना नहीं है।
ख़्वाब सजाना नहीं है।
Anil "Aadarsh"
Loading...