Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author

जहां चाह वहां राह

एक अनाथ लड़की थी उमा उसके माता पिता की सड़क हादसे में मारे गए ,वोह अपने चाचा चाची के साथ
रहती थी ।उसके चाचा तो बहुत अच्छे थे अपने
अन्य बच्चों की तरह समान रूप से प्यार और देखभाल करते थे ।मगर उसकी चाची बहुत दुष्ट थी ,
उससे सारा घर का काम करवाती और सारा दिन उसे डांटती फटकारती रहती थी।
उसके चाचा के घर के पास एक गोल गप्पे वाला शंकर रहता था ।वोह उसे अक्सर आते जाते मिल जाता,और वोह उससे गोल गप्पे खाने जाती थी ।गोल गप्पे वाला बहुत भला इंसान था ।
शंकर बड़ा दिलवाला होने के नाते उससे गोल गप्पे खाने के पैसे नहीं लेता था । वोह एक तरह से उसका दोस्त बन गया था । वोह उससे अपने दिल की सारी बातें कर लेती थी । और वोह किसी से न कहता था बल्कि उसे हर समय ढांढस बंधाता रहता था ।
एक दिन चाची के कठोर बर्ताव से तंग आकर उमा ने चाचा चाची का घर सदा के लिए छोड़ दिया।
और गोल गप्पे वाले के पास आकर ,फूट फूट कर रोने लगी तो शंकर को उसके घर के हालात का पता था और वोह उसकी मानसिक स्थिति को भी समझ रहा था। उसे लगा यह कोई खुदकुशी जैसा कठोर कदम न उठा ले यह सोचकर उसने उस उमा के सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया ।कहा “मैं तुमसे मन ही मन प्रेम करता आ रहा हूं । मैं आर्थिक रूप से जायदा मजबूत तो नहीं हूं मगर इतना जरूर कमा लेता हूं की हमारा गुजारा आराम से हो सकता है ।और तुम्हें मेरे घर पूरा प्रेम और आदर सम्मान मिलेगा। क्या तुम्हें स्वीकार है ?”उमा अनाथ होने के कारण आदर सम्मान और प्यार की ही तो तरसी हुई थी सो मान गई और आखिरकार लड़की ने उस गोल गप्पे वाले से शादी कर ली।उमा अपनी गृहस्थी संभालने के साथ साथ अपने पति के काम में हाथ बंटाने लगी ।और बहुत जल्दी उन्होंने अपना रेस्टोरेंट खोल लिया ,क्योंकि उमा पाक कला में निपुण थी ।कुछ व्यंजन बना लेती थी और कुछ पत्र पत्रिकाओं से ,पढ़कर सिख कर बना लेती थी ।
इस प्रकार उनके परस्पर प्रेम और सहयोग से,
उनका जीवन सुख से गुजरने लगा ।इसे कहते है ,
जहां चाह वहां राह । उमा और शंकर एक दूजे को ,
बहुत चाहते थे इसीलिए दोनो के प्रेम ने स्वयं अपनी
प्रेम की शक्ति से अपनी प्रगति की राह बना ली ।
और वोह एक कामयाब और सुखी जीवन जीने लग गए ।

1 Like · 73 Views
You may also like:
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
Save the forest.
Buddha Prakash
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H. Amin
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्ते
Saraswati Bajpai
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
Loading...