Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2022 · 2 min read

जहां चाह वहां राह

एक अनाथ लड़की थी उमा उसके माता पिता की सड़क हादसे में मारे गए ,वोह अपने चाचा चाची के साथ
रहती थी ।उसके चाचा तो बहुत अच्छे थे अपने
अन्य बच्चों की तरह समान रूप से प्यार और देखभाल करते थे ।मगर उसकी चाची बहुत दुष्ट थी ,
उससे सारा घर का काम करवाती और सारा दिन उसे डांटती फटकारती रहती थी।
उसके चाचा के घर के पास एक गोल गप्पे वाला शंकर रहता था ।वोह उसे अक्सर आते जाते मिल जाता,और वोह उससे गोल गप्पे खाने जाती थी ।गोल गप्पे वाला बहुत भला इंसान था ।
शंकर बड़ा दिलवाला होने के नाते उससे गोल गप्पे खाने के पैसे नहीं लेता था । वोह एक तरह से उसका दोस्त बन गया था । वोह उससे अपने दिल की सारी बातें कर लेती थी । और वोह किसी से न कहता था बल्कि उसे हर समय ढांढस बंधाता रहता था ।
एक दिन चाची के कठोर बर्ताव से तंग आकर उमा ने चाचा चाची का घर सदा के लिए छोड़ दिया।
और गोल गप्पे वाले के पास आकर ,फूट फूट कर रोने लगी तो शंकर को उसके घर के हालात का पता था और वोह उसकी मानसिक स्थिति को भी समझ रहा था। उसे लगा यह कोई खुदकुशी जैसा कठोर कदम न उठा ले यह सोचकर उसने उस उमा के सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया ।कहा “मैं तुमसे मन ही मन प्रेम करता आ रहा हूं । मैं आर्थिक रूप से जायदा मजबूत तो नहीं हूं मगर इतना जरूर कमा लेता हूं की हमारा गुजारा आराम से हो सकता है ।और तुम्हें मेरे घर पूरा प्रेम और आदर सम्मान मिलेगा। क्या तुम्हें स्वीकार है ?”उमा अनाथ होने के कारण आदर सम्मान और प्यार की ही तो तरसी हुई थी सो मान गई और आखिरकार लड़की ने उस गोल गप्पे वाले से शादी कर ली।उमा अपनी गृहस्थी संभालने के साथ साथ अपने पति के काम में हाथ बंटाने लगी ।और बहुत जल्दी उन्होंने अपना रेस्टोरेंट खोल लिया ,क्योंकि उमा पाक कला में निपुण थी ।कुछ व्यंजन बना लेती थी और कुछ पत्र पत्रिकाओं से ,पढ़कर सिख कर बना लेती थी ।
इस प्रकार उनके परस्पर प्रेम और सहयोग से,
उनका जीवन सुख से गुजरने लगा ।इसे कहते है ,
जहां चाह वहां राह । उमा और शंकर एक दूजे को ,
बहुत चाहते थे इसीलिए दोनो के प्रेम ने स्वयं अपनी
प्रेम की शक्ति से अपनी प्रगति की राह बना ली ।
और वोह एक कामयाब और सुखी जीवन जीने लग गए ।

Language: Hindi
1 Like · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
जय श्री राम
जय श्री राम
आर.एस. 'प्रीतम'
शेर
शेर
Monika Verma
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
बुंदेली (दमदार दुमदार ) दोहे
बुंदेली (दमदार दुमदार ) दोहे
Subhash Singhai
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
" दीया सलाई की शमा"
Pushpraj Anant
भारत में सबसे बड़ा व्यापार धर्म का है
भारत में सबसे बड़ा व्यापार धर्म का है
शेखर सिंह
मैंने, निज मत का दान किया;
मैंने, निज मत का दान किया;
पंकज कुमार कर्ण
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
3268.*पूर्णिका*
3268.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
कवि दीपक बवेजा
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
"दोस्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
Atul "Krishn"
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पल भर कि मुलाकात
पल भर कि मुलाकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
VINOD CHAUHAN
Loading...