Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2016 · 1 min read

जलाता सूर्य है हमको

जलाता सूर्य है हमको जरा घिर मेघ आओ तुम
बहुत प्यासी धरा अपनी , बरस उसको बुझाओ तुम
उदासी की घटायें हैं घिरी हरियाली के मुख पर
सुना संगीत बूंदों का उन्हें थोड़ा हँसाओ तुम
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
191 Views
You may also like:
नेता पलटी मारते(कुंडलिया)
Ravi Prakash
किसी दिन
shabina. Naaz
✍️मातारानी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सजा मिली है।
Taj Mohammad
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बच्चों की दिपावली
Buddha Prakash
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
धर्मांधता
Shekhar Chandra Mitra
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
दोहे नौकरशाही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
पार्क
मनोज शर्मा
त्याग
Saraswati Bajpai
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हे मंगलमूर्ति गणेश पधारो
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपनो को।
Pradyumna
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️एक घना दश्त है✍️
'अशांत' शेखर
किसी से भी मुकद्दर की
Dr fauzia Naseem shad
✴️🌸सहस्त्रं तु पितृन्माता गौरवेणातिरिच्यते🌸✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निःशक्त, गरीब और यतीम को
gurudeenverma198
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
नवगीत -
Mahendra Narayan
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
उठो युवा तुम उठो ऐसे/Uthao youa tum uthao aise
Shivraj Anand
Loading...