Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2016 · 1 min read

जलाता सूर्य है हमको

जलाता सूर्य है हमको जरा घिर मेघ आओ तुम
बहुत प्यासी धरा अपनी , बरस उसको बुझाओ तुम
उदासी की घटायें हैं घिरी हरियाली के मुख पर
सुना संगीत बूंदों का उन्हें थोड़ा हँसाओ तुम
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
2656.*पूर्णिका*
2656.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हादसे पैदा कर
हादसे पैदा कर
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जय माँ जगदंबे 🙏
जय माँ जगदंबे 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
कठिन परीक्षा
कठिन परीक्षा
surenderpal vaidya
छाती पर पत्थर /
छाती पर पत्थर /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh Manu
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
Sarfaraz Ahmed Aasee
*हिन्दी बिषय- घटना*
*हिन्दी बिषय- घटना*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
यह मकर संक्रांति
यह मकर संक्रांति
gurudeenverma198
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
ਕਿਉਂ ਰੋਵਾਂ
ਕਿਉਂ ਰੋਵਾਂ
Surinder blackpen
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
Srishty Bansal
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
Harminder Kaur
अपनों की खातिर कितनों से बैर मोल लिया है
अपनों की खातिर कितनों से बैर मोल लिया है
कवि दीपक बवेजा
कोशिश कम न थी मुझे गिराने की,
कोशिश कम न थी मुझे गिराने की,
Vindhya Prakash Mishra
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
मुझे दूसरे के अखाड़े में
मुझे दूसरे के अखाड़े में
*Author प्रणय प्रभात*
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
*चुनाव में उम्मीदवार (हास्य व्यंग्य)*
*चुनाव में उम्मीदवार (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
Loading...