Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो

जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह बनाने के लिए
दु:ख दे दिया जाता है…!

~ आरती सिरसाट

1 Like · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
कद्र और कीमत देना मां बाप के संघर्ष हो,
कद्र और कीमत देना मां बाप के संघर्ष हो,
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
2459.पूर्णिका
2459.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धोखा देना या मिलना एक कर्ज है
धोखा देना या मिलना एक कर्ज है
शेखर सिंह
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
*अमर रहेंगे वीर लाजपत राय श्रेष्ठ बलिदानी (गीत)*
*अमर रहेंगे वीर लाजपत राय श्रेष्ठ बलिदानी (गीत)*
Ravi Prakash
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
"वक्त" भी बड़े ही कमाल
नेताम आर सी
मित्रो नमस्कार!
मित्रो नमस्कार!
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
प्रेम निवेश है ❤️
प्रेम निवेश है ❤️
Rohit yadav
क्या लिखूं ?
क्या लिखूं ?
Rachana
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
ज़िंदगी जी तो लगा बहुत अच्छा है,
ज़िंदगी जी तो लगा बहुत अच्छा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आत्मबल
आत्मबल
Shashi Mahajan
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
कोई मंझधार में पड़ा है
कोई मंझधार में पड़ा है
VINOD CHAUHAN
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
Loading...