Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है

जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है तब अनकही बातों के लिए भी उन्हें सीधे कसूरवार ठहरा कर आरोप मढ़ना बहुत ही सरल होता है दूसरों के लिए।

Paras Nath Jha

264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
कवि दीपक बवेजा
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
*कभी अच्छाई पाओगे, मिलेगी कुछ बुराई भी 【मुक्तक 】*
*कभी अच्छाई पाओगे, मिलेगी कुछ बुराई भी 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
भूल गया कैसे तू हमको
भूल गया कैसे तू हमको
gurudeenverma198
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
विजय कुमार नामदेव
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
गेंदबाज़ी को
गेंदबाज़ी को
*Author प्रणय प्रभात*
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
💐प्रेम कौतुक-229💐
💐प्रेम कौतुक-229💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2859.*पूर्णिका*
2859.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Kavita Chouhan
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...