Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

जब कभी प्यार की वकालत होगी

जब कभी प्यार की वकालत होगी
***************************

जब कभी प्यार की वकालत होगी,
आशिकों से भरी अदालत होगी।

रोकते – रोकते रुकेगी रुख़सत,
हर तरफ बोलती बगावत होगी।

झौंक कर जोर भी मिले ही हारें,
प्रेम ही कीमती विरासत होगी।

बात को जो समझ गया है ढोंगी,
ढोंगपन ही सही अदावत होगी।

देख कर भी न रुके मनसीरत,
धूप से भी तेज वो शरारत होगी।
**************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
क़ानून का जनाज़ा तो बेटा
क़ानून का जनाज़ा तो बेटा
*Author प्रणय प्रभात*
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेखला धार
मेखला धार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
Sukoon
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
" दूरियां"
Pushpraj Anant
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक "रामपुर के रत्न" का लोकार्पण*
Ravi Prakash
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...